Tuesday, July 13, 2021

Short essay on Sun in Hindi

Short essay on Sun in Hindi  - सूर्य एक तारा है जो संपूर्ण निकट ग्रह ढांचे के अभिसरण के बिंदु पर व्यवस्थित है। फिर भी विभिन्न तारों का अपना प्रकाश होता है, फिर भी पास के ग्रहों के ढांचे में कुछ तारे हैं जो सूर्य के प्रकाश से चमकते हैं। यह ग्रह पर 100 अरब से अधिक सितारों में से एक है। सूरज आग का ढेर है। जो किसी भी क्षमता में ठोस नहीं है। यह कुल मिलाकर गैसों से बना है। सूर्य की आयु ९ अरब वर्ष मानी जाती है। सूर्य पृथ्वी से फुटबॉल जैसा दिखता है। बावजूद इसके इसकी चौड़ाई 13 लाख 92 हजार किलोमीटर है। सूर्य विभिन्न अवसरों के आसपास पृथ्वी की तुलना में अधिक उल्लेखनीय है। पृथ्वी से 150 मिलियन किलोमीटर की दूरी पर स्थित होने के बावजूद, यह हमें इतनी अधिक रोशनी और गर्मी प्रदान करता है। सूर्य के प्रकाश को पृथ्वी पर सूर्य से दिखाई देने के लिए 8 मिनट 17 सेकंड की आवश्यकता होती है।

यदि एक दिन के लिए भी सूर्य का प्रकाश पृथ्वी पर दिखाई नहीं देता है, तो यह दुनिया दो या तीन घंटे उत्तर और दक्षिण ध्रुवों के रूप में दिखाई देगी। सूर्य में 74% हाइड्रोजन और 24 प्रतिशत हीलियम है। अधिकता 2% में ऑक्सीजन, नियॉन, हीलियम और लोहा शामिल है। सूर्य की बाहरी सतह का तापमान 5500 डिग्री सेल्सियस है, जबकि आंतरिक भाग का तापमान 13.1 मिलियन डिग्री सेल्सियस है।

संसार में सूर्य का औचित्य साधारण प्रकाश है। यदि सूर्य न होता तो चारों ओर निरन्तर अँधेरा छाया रहता। दिन और रात नहीं थे। चन्द्रमा की सायंकाल चमक भी सूर्य का ही प्रत्यक्ष फल है। यदि सूर्य न हो तो इसकी कल्पना करना कठिन है। सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह बृहस्पति, इसी तरह सूर्य से थोड़ा पहले होने का आभास देता है। निकट के ग्रहों के सभी ग्रह सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाते हैं।

सूर्य के बिना वृक्षों और वृक्षों के बिना मनुष्य और विभिन्न जानवरों का जीवन अथाह है। आवश्यकता के अनुसार पृथ्वी पर जीवन का अनिवार्य कारण सूर्य है। पौधे अपना भोजन बनाने के लिए सूर्य की ऊर्जा का उपयोग करते हैं। पेड़ों के माध्यम से ही लोगों को ऑक्सीजन मिलती है। जिसे ध्यान में रखते हुए हम आराम कर सकते हैं। सूरज की चमक के परिणामस्वरूप समुद्र, झील, झील आदि का पानी वातावरण में कोहरे के रूप में सीता और जमाखोरी बन जाता है और ये कोहरे हमें जलप्रलय से भर देते हैं। यह आशा करते हुए कि सूर्य नहीं होगा, यह चक्र काम नहीं करेगा और पानी के बिना यह दुनिया एक निर्जन ग्रह के रूप में रहेगी।

आजकल परंपरागत रूप से दी जाने वाली इस चमक का उपयोग सूर्य के प्रकाश पर आधारित ऊर्जा बनाने में भी किया जाता है। जहां पर्याप्त धूप होती है, वहां सूर्य स्थित ऊर्जा का उपयोग करके शक्ति लाई जाती है। गर्म पानी के लिए झरनों का उपयोग करके, भोजन तैयार करने के लिए सूर्य स्थित कुकर, आदि भूमि वाहनों से लेकर छोटे विमानों तक सूर्य की चमक को सूर्य नियंत्रित ऊर्जा पर चलाया जा रहा है। यदि सूर्य स्थित ऊर्जा का भी उपयोग किया जाता है, तो प्रकृति के जैविक सामंजस्य को भी इसी तरह बदला जा सकता है।

SHARE THIS

Author:

EssayOnline.in - इस ब्लॉग में हिंदी निबंध सरल शब्दों में प्रकाशित किये गए हैं और किये जांयेंगे इसके इलावा आप हिंदी में कविताएं ,कहानियां पढ़ सकते हैं